विजयादशमी : एगो समूहवाची अभिव्यक्ति

विजयादशमी पर्व शक्ति के पर्व ह। एगो अइसन शक्ति जवन अन्याय के विरोध आ न्याय के साथ देवे। एही विजयादशमी पर्व पर भोजपुरी समय पर पढ़ीं भोजपुरी के वरिष्ठ साहित्यकार आ विद्वान श्री परिचय दास जी के लिखल ई भोजपुरी ललित निबंध  “विजयादशमी: एगो समूहवाची अभिव्यक्ति”

विजयादशमी शक्ति क उत्सव ह , मंगल क हेतु. कइसन शक्ति ? जवन अन्याय क प्रतिरोध करे, जवन निर्बल के संबल दे. जवन करुना के समन्वित क के पुरुषार्थ के आधार बनावे. ‘ जे लरै दीन के हेत सूरा सोई ‘ . हर केहू के जीवन में वनवास आवेला. ओम्में अपने के बचा के साहसपूर्वक जहवाँ भविष्य -गमन होखे, ऊहे विजयादशमी ह. विजयादशमी से पूर्व नौ दिवसीय उपवास क शक्ति . उपवास यानी निकट रहल. ई निकटता वास्तव में अपनहीं से होखे के चाहीं. जे अपने से निकट ना , ऊ केहू के निकट ना हो सकेला . केहू के निकट होके , केहू अउर के निकट होखल श्रेयस्कर ह. समकालीन दुनिया में अदिमी अपने के खोवत जा रहल हवे. सब कुछ पवाला के बावजूद स्वयं क रिक्तता. ईहे विपर्यय ह. पद-प्रतिष्ठा-रुतबा-संपर्क आदि तब ले द्वितीयक हवें जब ले स्वयं [ निजता ] क आभा ना होखे. निजता के शक्ति से हीन व्यक्ति शक्तिशाली ना हो सकेला , विजयादशमी ईहे इंगित करेले. राम आत्मिक उदात्तता के चरम छन के विरल संगीत हवें . सीता आ राम खाली हमनीं के परम्परा क गति ना , यतियो हवें, छंदो हवें जवन हजारन बरिस से हमनीं के अभिव्यक्ति बनल हवें .

हर केहू में अच्छाई -बुराई क संधि ह. अनुपात अलग-अलग हो सकेला. कवनों -कवनों क्षेत्र धूसरो हो सकेला, मने ग्रे एरिया. भारतीय सामान्य व्यक्ति क प्रश्नाकुलता के स्वर विजयादशमी में हवे जवन हमनीं के धमनी आ शिरा में वास करे लें . हमनीं के संकल्प-भावना क मूर्तिमंत रूप. जब अन्याय होखे त ओसे संघर्ष क आरेखन विजयादशमी में मिलला. सामान्य के इकठ्ठा कsके संघर्ष कइला क कला राम के लग्गे हवे. सत्ता से दूर रहिके मैत्री-कला केहू उनसे सीखे. मैत्री क निर्वाह कइलो ऊ जानेलन . ऊ लंका पर राज ना करेलन . ऊ विस्तारवादी नीति के नियामक ना. रावन एगो अइसन प्रतिनायक ह , जवन विद्वान् हवे आ प्रकृति के वश में रखेला. रावन से सीखे खातिर लछुमन रावन के मृत्यु के घरी में सादर उनका लग्गे जालें. रावन विराट शक्ति आ प्रतिभा क धनी रहे. ओकर शक्ति आ प्रतिभा जदि स्त्री के हरला में ना खपत आ मन-विस्तार होत त साइत राम-रावन संघर्ष क दिशा कुछ अ लउरू होत. ‘रह गयल राम-रावन क अपराजेय समर’. कब्बों ख़त्म ना होला हमनीं के भित्तर क संघर्ष – प्रकाश आ अन्धकार क. जइसे अन्हियारो में विशिष्ट क्षमता होली सन ओइसहीं रवनवो में बेहतरी कई बार देखल जा सकल जाला. भारतीय मन केहू में खाली नकारात्मकते ना देखेला , ऊ सकारो खोजला. चाहे कहीं – खोज लेला. शम्बूक आ सीता- निष्कासन के प्रसंगो के लोक अपना समझ से देखेला .

महत्व जदि सत्ता, संपत्ति , कृत्रिम लोकप्रियता , धाक आदि के सहारे प्राप्त भइल त ओकरे कम हो गइले क संभावना अधिका होले . जदि अच्छाई एकरे विधायक गुण -संपत्ति से बनल आ बुनल होखे त ओम्में धुंधलापन अइला के अधिक आशंका ना होला. राम क जवन अर्जित हवे , ओके विधायक सृजनशीलता कहल जा सकल जाला |आधुनिकतावाद औद्योगिक विकास , बुद्धिवाद आ विज्ञान के वर्चस्व के प्रगति आ सभ्यता के साथ जोड़ दिहल गइल रहे, जबकि उत्तर आधुनिकतावाद संस्कृति के एक के बजाय अनेक आ केंद्रित के बजाय विकेन्द्रित करार दिहलस . अब्बे देखीं त नया सिरा से अब संस्कृति डिस्कोर्स क मुद्दा बनल रहल हवे , जेम्में जरिन क तलाश , अतीत आ परम्परा के नया अवगाहन महत्त्वपूर्ण बनत गयल हवें .

राम के नया सिरे से आविष्कृत कइला खातिर उनहूं के गहराई से समझे के होखी जवन ‘ अन्य ‘ के रूप में रहल हवें आ कई बेर साहित्य आ इतिहास से बहरे मानल जात रहल हवें , जइसे- दस्यु, राक्षस आ आदिजन . येह सबाल्टर्न क समीचीन व्याख्या आवश्यक होखी . सीता, उर्मिला , मांडवी आदि के भी नया सिरे से देखे के होखी . येह पढ़ले क प्रक्रिया के गायत्री स्पीवॉक चक्रवर्ती ‘ ट्रैन्जेक्टिव रीडिंग ” कहेली . एह तरह नये अर्थन आ सन्दर्भन क दुनिया के दुवार खुलेलन .

एतनी सगरो अर्थच्छवियन , दृष्टियन क संकुलता आ बहुवचनात्मकता से संपृक्त कथा हज़ारन साल से लोक व्यवहार , आचार आ स्मृति में रंगमयी झिलमिलाहट से भारतीय समाज के रचत रहल हवे… अइसन निरंतरता , जवन जीवन क उत्सव बन जाय …. भारतीय बिम्ब सदा मंद्र आ तारसप्तक के बीच होला. उहां अतिवाद के स्थान ना. एही खातिर प्रतिपदा से दशमी खातिर अइसन सुऋतु चयनित हवे, जहां ना शीत हवे ना गर्मी . जहवाँ स्वच्छता पर बल हवे : अंतः आ बाह्य परिमार्जन. एक ना , ई कथा सैकड़न रूपन में हवे. खाली एगो पाठ ना, सैकड़न पाठ. एगो पाठ राम क त अन्य पाठ सीता क. एगो पाठ लछुमन क त अन्य पाठ उर्मिला क. राम ,लछुमन – भरत के अन्तर्सम्बन्ध एगो भिन्न कोटि क पाठ बनावलन . रामायन, रामचरितमानस, अध्यात्म रामायण, साकेत, रामचंद्रिका , आनंद रामायण, बौद्ध रामायण आदि. ओम्में अलग-अलग दृष्टि. दृष्टियन क बहुलता वाली अइसन विजयादशमी क विजय-पाठ अंततः जदि सामान्य अदिमी क प्रेरक स्मृति क सुगंध से ना जुड़ल होत त ऊ अर्थमय ना होत आ हमनीं के भित्तर -बहरे के चौक-चौबार में मेला न बन जात . एगो अइसन मेला , जहां हमनीं के स्वयं से मिलल जाला
लोको से . नायक से मिलल जाला, प्रतिनायको से . समय से मिलल जाला , भविष्यो से . काव्य से मिलल जाला, महाकाव्यो से . अंत से मिलल जाला , अनंतो से . भाषा से मिलल जाला , भाषा से परहूं . हद से मिलल जाला , बेहद से भी।

परिचय दास

 257 total views,  7 views today

Related posts

Leave a Comment