वैक्सीने बचाई कोरोना के संक्रमण से – सिविल सर्जन डॉ. जे. पी. सुकुमार

धर्मेंद्र पांण्डेय, भोजपुरी समय, मशरखः “वैक्सीन हीं कोरोना संक्रमण से बचायेगा” ई कहनाम बा बिहार के छपरा जिला के सिविल सर्जन डॉ. जेपी सुकुमार के। एगो पत्रकार वार्ता में डॉ. सुकुमार कहलन कि कोरोना टीकाकरण के लेके नागरिकन में जबरदस्त उत्साह देखल जा रहल बा। एकरा बावजूदो कुछ लोगन में भ्रम के स्थिति बनल बा।

जिला में आ राज्यन में निःशुल्क टीकाकरण हो रहल बा। कोरोना से बचाव खातिर सबसे सशक्त उपाय टीकाकरणे बा। कोरोना के संभावित तीसरका लहर में टीकाकरण से लाभांवित लोगन में संक्रमण के आशंका बहुत कम हो जाई। टीका लगवला के बादो जदि कोरोना के संक्रमण होता  त ओकर तीव्रता कम हो जाई। कोरोना के वैक्सीन लगला के बाद कुछ लोग में बोखार आ जहां टीका लागल बा ओजा दर्द के समस्या हो सकता। बुखार भइल जरुरी नइखे। एकरा अलावा सिविल सर्जन अपना बात के आगे बढ़ावत कहलें कि कोरोना महामारी से बचे खातिर वैक्सीनेशन जरुरी बा। कोविड-19 के टीका लेके रउआ आ हम आपन-आपन  परिवार के संगे समाजो के सुरक्षित कर सकतानी। एह खतरनाक वायरस से बंचे  के एकमात्र उपाय टीका बा। अइसन में अट्ठारह बरिस के आयु के उपर के सभ लोग वैक्सीन लेवे जवना से कि कोरोना के हरावल जा सके।

डॉ. सुकुमार कहलें कि  कोरोना के वायरस रुप बदल रहल बा। कोविड के टीका पूरा तरह से सुरक्षित आउर प्रभावी बा। ई टीकाकरण गर्भवती महिला सन के कोविड -19 बीमारी से बचावेला। ऊ इहो कहलें हालांकि कवनो दवा के जइसन, एगो टीको के दुष्प्रभाव हो सकता, जवन आमतौर पर हलुक होला। वैक्सीन लगवला के बाद, केहू के हल्का बोखार हो सकता , इंजेक्शन वाला जगहा पर दर्द हो सकता चाहे 1-3 दिन  तक अस्वस्थ महसूस कर सकता।

Related posts

Leave a Comment

11 − four =