अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

यदि साचों में हमनी के भोजपुरी भा अपनी मातृभाखा के ले के गंभीर बानी जा तऽ हमनी के सोशल मीडिया में भोजपुरी में भले लिखीं जा चाहें ना बाकिर हमनी अपना घर के लइकन से भोजपुरी में बतियावे के चाहीं। बदलल समाज बेवस्था में सरकार के बहुत बरियार जोगदान बा बाकिर सगरी दोख सरकार पऽ डालि दिहला से हमनी के जिम्मेदारी खत्म ना हो जाई। जदि लोग एह बेरा ना चेताई तऽ दोसर भाखा जल्दिए मातृभाखा बनि जइहन सऽ अउरी हमनी के देखते रहि जाइब जा। जदि संभव होखे तऽ हमनी के इवेंड मोड से बहरी निकसि के अपनी मातृभाखा (संस्कृति आ अथाह ज्ञान) के एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी ले प्राकृतिक तरीका से हस्तांतरित करीं जा।

Read More

आर्थिक गतिविधि महामारी से पहिले वाला स्तर पऽ पहुँचल

आर्थिक गतिविधियन के सूचकांक के साथे गतिशीलता, बिजली के खपत अउरी श्रम भागीदारी जइसन उच्च आवृत्ति वाला संकेतक बतावत बाड़े सऽ कि भारतीय अर्थव्यवस्था में आर्थिक गतिविधि कोरोनाकाल से पहिले वाला स्तर से लगभग खाली 1.9% नीचे रहि गइल बा। लगभग सगरी उच्च आवृत्ति वाला आर्थिक संकेतक बतावत बाड़े कि भारतीय अर्थव्यवस्था जल्दिए पूर्व-महामारी के स्तर के जल्दिए पा जाई। हालांकि कि संगही इहो उम्मीद बा कि गतिशीलता आ श्रम भागीदारी संकेतकन के महामारी से पहिले वाला स्तर के पावे में अभी कुछ समय लागी। गतिशीलता संकेतक महामारी के पहिले…

Read More

केन्द्रीय बजट 2021-22

लॉकडॉउन के बाद, जे तरे भारतीय अर्थव्यवस्था में आर्थिक गतिविधि में बढ़न्ती भइल बा ऊ भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत भविष्य के ओर अँगुरी देखावत बा। शेयर बाजारो एही आशावादी भाव के दर्शावत तेजी के रूख अपनवले बा। बाकिर ई बहुत जरुरी बा कि अर्थव्यवस्था अउरी बाजार के एह आशावादी रुख के बनवले राखे खातिर सरकार से भरपूर अउरी मजबूत सहजोग मिलो अउरी केन्द्रीय बजट ओकर सबसे बरियार माध्यम बा। सरकार केन्द्रीय बजट 2021-22 के ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ से शुरू कइल परियासन के आगे बढ़ावे के परियास करत नजर आवत बे।…

Read More

शेयर बाजार में बढ़त अस्थिरता

भारतीय शेयर बाजार पिछिला कई महिना से एकसुआहे तेजी के रुझान पकड़े बा। 23 मार्च 2020 के सबसे निचिला स्तर से अबले शेयर बाजार के सूचकाँक सेंसेक्स अउरी निफ्टी-50 बढ़ि के लगभग दूगुना हो गइल बा। बाकिर एह तेजी के संगही बाजार में दैनिक आ साप्ताहिक अस्थिरता बहुत अधिक बढ़ि गइल बा। बिना स्पष्ट कारन के कहियो बाजार कई प्रतिशत गिर जाता अउरी ओही दिने भा अगिला दिने बाजार फेर से कई प्रतिशत बढ़ि जाता। उदाहारण खाती 18 मार्च के बीएससी सेन्सेक्स 623 अंक के गिरावट के संगे 1.3 प्रतिशत…

Read More

लक्ष्मी विलास बैंक अउरी डीबीएस बैंक के विलय

लक्ष्मी विलास बैंक पिछिला तीन साल से अधिका समय से वित्तीय समस्या से जुझत रहल हऽ। एह तीन सालन में बैंक के वित्तीय स्थिति में लगातार गिरत गइल बा। घाटा बढ़त जा रहल बा। सितंबर 2020 में खतम भइल तिमाही के अंत में सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) और प्रावधान के मात्रा कुल्ह रू  4,233.31 करोड़ अउरी रू 16,622 करोड़ के करजा और 73 20,973 करोड़ जमा रहल। एह कारन बैंक के नेटवर्थ लगातार गिर रहल बा। टायर-1 कैपिटल नकारात्मक हो के -0.88% ले फिसल गइल बा। कैपिटल पर्याप्तता अनुपात गिर…

Read More

कोरोना वायरस अउरी भारतीय अर्थव्यवस्था

कोरोना वायरस के बढ़त प्रकोप के कारन सगरी देश में लॉकडॉउन लागल बा। एह लॉकडॉउन के कारन शुरूआती दौर में देश के आर्थिक गतिविधि में लगभग 75% ले कमी आ गइल रहल। बाकिर आवश्यक वस्तुन अउरी सेवा के आदान प्रदान प छूट मिलला के बादो भारतीय अर्थव्यवस्था में आर्थिक गतिविधि में लगभग 60% के कमी बनल बा। जदि 4 मई के लॉकडॉउन खुलियो जाता तब्बो देश के आर्थिक गतिविधि पूरा तरह से शुरू ना हो पाई। एह कारन संभावना बा कि उत्पादन अउरी उपभोग में बहुत ज्यादा कमी आई जेकरा…

Read More

महापंडित राहुल सांकृत्यायन

ई दुनिया बड़ बे; बहुत बड़ औरी एतहत बड़हन दुनिया में जाने केतने लोग बाड़ें औरी जाने केतने लोग पहिलहूँ ए दुनिया में रहल बाड़ें लेकिन कुछ नाँव लोगन के मन में ए तरे घुस जाला कि ओकरा खाती समय के केवनो मतलब ना रह जाला। औरी ओह हाल में बकत आपन हाथ-गोड़ तुरि के बइठ जाला। चुपचाप। अइसन लोगन क नाँव औरी काम एक पीढी से दूसरकी पीढी ले बिना केवनो हील-हौल पहुँच जाला। कुछ अइसने लोगन में एगो नाम बा महापण्डित राहुल सांकृत्यायन जी कऽ जिनकर साहित्य में…

Read More

कोरोना वायरस मानवीय त्रासदी

corona virus

कहल जाला कि जब आदिमी दोसरा खाती गड़हा खोनेला तऽ ओह गड़हा में ओकरो गिरे के चानस रहेला। ई कँटइला तार पऽ चलला नियर होला। आदिमी चाहे भा ना चाहे बाकिर गोड़ में घाव होखबे करी। कॉराना वायरस से पीड़ित चीन के हाल ओह आदिमी नियर हो गइल बा जे अपने बिछवले काँट से घाही हो गइल होखे अउरी ओह घाव के दवाइयो ना होखे। आज वुहान शहर अउरी हुबेई प्रान्त एह समय से सभसे बड़ त्रासदी से हुजर रहल बा। अंतर्राष्ट्रीय मीडिया के हिसाब से चीनी वैज्ञानिक हुबेई के…

Read More

खेती के लाभकारी बनावे के परियास बा बजट 2020

कृषि बजट 2020

आर्थिक मंदी के कारन अर्थव्यवस्था के सगरी क्षेत्रन से बजट 2020 से बहुते उम्मीद लागल रहल हऽ। बजट 2020 कुछ उम्मीदन के पुरा कइले बा तऽ कुछ उम्मीदन के ओर धियान नइखे दे पवले। बाकिर खेती के हाल सभसे बाउर भइला अउरी मोदी सरकार के 2022 ले किसानन के कमाई दोगुना करे के वादा के कारन ई उम्मीद रहल हऽ कि ई बजट जरूर गाँवन अउरी खेती के ओर विशेष धियान दी। मालूम होखे के चाहीं कि देश के अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजरत बा जेवना में ग्रामीण अर्थव्यवस्था…

Read More

बजट 2020: आर्थिक मंदी से लड़े के परियास

अर्थव्यवस्था के सगरी क्षेत्रन के 1 फरवरी के वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के पेश भइल केन्द्रीय बजट से बहुत उम्मीद रहल हऽ। बजट 2020 लगभग हर क्षेत्र के कुछ उम्मीदन के पूरा कइले बा तऽ कुछ माँगन के पूरा करे में सक्षम नइखे हो पावल। बाकिर ई सामान्य बात बा। केवनो बजट के एगो सीमा होला अउरी ओकरा खाती सगरी माँग पूरा कइल संभव ना होला। सरकार के  संसाधन के सही बंटवारा करे के रहेला अउरी पूरा अर्थव्यवस्था के दशा के आधार पऽ संसाधनन के ई बंटवार होला। बाकिर सरकार के समझ अउरी सोच तय करेला कि केवना क्षेत्र के बेसी महता दिहल जाई अउरी केवना के कम।

Read More