कोरोना आ लॉकडाउन के बहाने नवका पीढ़ी के अपना संस्कृति से करवाईं परिचय

Ramayan रामायण

मन बड़ा दुखाला जब छोट छोट बात प खून के रिश्ता के खून के आंस बहावत देखिला । कबो धन खातिर मान खातीर अपमान खातीर नावा के पावे बदे पुरान मजबुत रिश्ता के बंधन के ढिल होखत टूटत देखिना । कुछ अपवाद के छोड़ दिहल जाव त अधिकांश रिश्ता के फेड़ उहे हरियर बा जहँवा से कुछ मिलत होखे बा मिले के आस होखे । बाकी रिश्ता नाता त मुरझा रहल बा मसुवा रहल बा सोर जमीन छोड़हिं वाला बा हलुके हवा के जरूरत बा । जेके बोले सिखावल रहे…

Read More