नवरात्र के छठा दिने होला देवी कात्यायनी के पूजा

ॐ चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहना । कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानव-घातिनी ॥ नवरात्र के छठा दिने देवी कात्यायनी के पूजा कइल जाला। देवी कात्यायनी शक्ति के नवगो रुप में से छठा रुप हईं। अमरकोष में पार्वती मइया खातिर जवन दूसर नांव बा ऊ ‘कात्यायनी’ ही बा। एकरा अलावा संस्कृत के कइगो शब्दकोशन में उमा, कात्यायनी, गौरी, काली, शाकुम्भरी, हेमावती आ ईश्वरी जइसन इनकर कइगो नांव पढ़े के मिलेला। स्कन्द पुराण में उल्लेख बा कि ई परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न भइल रहलीं, जे देवी पार्वती द्वारा दिहल गइल सिंह पर सवार होके…

Read More