महामारी पर भारी आस्था आ विश्वास, डूबत सुरुज के अरघ के बाद अब भोर में सुर्योदय के इंतजार

भोजपुरी समय डेस्क: जब बात आस्था आ विश्वास के होला त ओकरा आगे बड़ से बड़ बेमारी आ प्रतिबंधन के कवनो मतलब ना रह जाला। आस्था आ विश्वास के संगे शुरू भइल चार दिनी छठ महापर्व के तीसरका दिने पछिम में अस्तांचल में जात सू्र्य के अरघ के संगे व्रती लोग आज के पूजा कइल संपन्न। काल्ह सबेरे भगवान भास्कर से जल्दी उदित होखे के निहोरा के संगे घाट से लवटले व्रती आ श्रद्धालु। जब माथ पर अरघ के कलसुप आ सूप से भरल दउरा के संगे व्रती आ उनका…

Read More

 छठ आउर सूर्य पूजा

कार्तिक मास के अमावस मने दियरी के चउथा दिन से शुरु हो जाला प्रकृति आ साय़ात देव भगवान सूर्य के उपासना के महापरब छठ। चार दिन ले चले वाला एह महापरब में भगवान सबर्य के उपासना के का महात्म बा, काहें उनकर पूजा कइल जाला एह पर अपना लेख के माध्यम से प्रकाश डाल रहल बानी भारत से लाखन किलोमीटर दूर रहे वाला श्री रुद्र दुबे जी। त आईं पढ़ल जाव रुद्र दुबे जी के ई आलेखः  छठ आउर सूर्य पूजा “ओम ह्रीं ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः” छठी मइया…

Read More