टूट गइल कंठी माला

ओह दिन एतवार रहे, आ हरमेशा खा-पीके आराम करत रहनी कि अचानके एगो फोन आईल। जब हम देखनी कि ई हमार एगो खास करीबी मने नाता के भतीजा के फोन बा त ओकर नंबर मोबाइल पर देखके हम ओकरा से बात करे के शुरू कइनी। हमनी चाचा-भतिजा में सर-समाचार भइल तले बात बतकही के बीचे ऊ कहलस कि “चाचा हम छठा महिना में बियाह करतानी”। ई सुनते हमार आंख कान आ मुंह खुलल के खुलल रह गइल। हमरा लागल कि हम कवनो सपना देखऽतानी का भाई? एह से हम पट…

Read More

महेन्द्र मिसिर: एगो महान गायक गीतकार आ क्रांतिकारी

पूर्वी के जनक महेंद्र मिश्र

महेंद्र मिश्र मने महेंदर मिसिर के नांव बिहार आ उत्तर प्रदेश के लोकगीतकारन में सबसे ऊपर बा। ऊ लोकगीत के दुनिया के सम्मानित बादशाह रहनी। उनकर रचल पूरबी उहां-उहां तक पहुंचल बा, जहां-जहां भोजपुरी सभ्यता, संस्कृति अउरी भोजपुरी भाषा पहुंचल बा। आपन पूरा जिनगी में उहाँ के कबो दोसरा के लिखल गीत ना गवनी। उनकर कविता में गेयता के स्थान सर्वोपरि रहत रहे। 16 मार्च 1886 के जन्मल महेंदर मिसिर के मउवत 26 अक्टूबर, 1946 के भइल रहे । महेंद्र मिश्र के जन्म सारण जिला के जलालपुर प्रखंड से सटल…

Read More