चरमरात बेवस्था- उंखड़त साँस

चरमरात बेवस्था- उंखड़त साँस बेशक आपन देश के पहिचान दुनियाँ जहांन में गाँवन के देश के रूप में ही बा। बाकिर आजादी के सात दशक के बादो गाँव आपन बुनियादी जरूरत चिकित्सा, शिक्षा आदि खातीर जूझ रहल बा। गोरन से त आजादी मिल गइल बाकि अपना देश के आपन लोगन के दबंगई से ना मिलल। राम राज्य के कल्पना खाली सपने बनी के रह गइल। राजनीति जनसेवा ना आपन घर भरे के साधन बनी के रह गइल बा, अधिकतर नेता जी लोग खातीर। कुछ लोग अपवाद हो सकता। सरकारी मुलाजिम…

Read More

कोरोना वायरस के दूसरका लहर के बीचे मोदी कइले देश के संबोधित

राम प्रकाश तिवारी, भोजपुरी समय, नई दिल्लीः  कोरोना वायरस के दूसरका लहर के बीचे  पीएम मोदी देश के संबोधित कइले। अपना संबोधन के शुरुआत में मोदी कोरोना वायरस के एह दूसरका लहर में आपन जान गंवावे वाला लोगन के प्रति आपन शोक जतवले आ एह दौरान ओह सभे कोरोना वारियर्स के सराहना कइले जे एह महामारी के घरी में आपन जिनगी के परवाह कइले बिना दिन रात लोग के सेवा में जुटल बा। पीएम मोदी जनता से निहोरा कइले कि हमनी के एह विकट इस्थिति में आपन धीरज नइखे छोड़े…

Read More

सतुआन के लीं आनंद सतुआ के संग

आज सतुआन ह, आज पूर्वी उत्तर प्रदेश आ बिहार झारखंड में सतुआ खाए के परंपरा बा। आज जब हमनी सभे रोजी रोटी के फेरा में अंधाधुंध दउड़ रहल बानीं जा, आ कोरोना महामारी फेरु से तेजी से फइल रहल बा। अइसन में आईं पढ़ीं सतुआन पर लिखल आशा सिंह जी के ई संस्मरण आ लवट चलीं  अपना लड़िकाईं में आ सतुआन के आनंद पूरा परिवार के संगे उठाईंः आज भोरे से बहुत काम रहल ह। चैती छठ के बर्तन आ घर दुआर पोंछत पाछत अबेर हो गई ल ह। मन…

Read More