का ह कजरी?

सावन के एगो पख बीत रहल बा आज, मने सावन के आज अमावस ह। सावन में अइसे त धरती हरियराइल रहेली आ धरतीए ना बलुक पूरा संसार हरियर भइल रहेला। एह दौरान गांव जवार में पहिले नया उमिर के लइकिन आ नया नोचर कनिया लोग झिलुआ लगाई लो आ कजरी गाई लो। अबहूंओ कतहीं कतहीं ई सुना जाला, त आखिर का ह कजरी? एकर का कहानी ब आईं कजरी के बारे में कुछ जानकारी लिहल जाउ प्रसिद्ध लोकगीत गायक श्री शशि अनाड़ी ब्यास जी के लिखल एह आलेख से- कजरी…

Read More