लॉ कालेज के छात्रा के संगे सामुहिक दुष्कर्म मामला में रांची के कोर्ट सुनवलस 96 दिन में फैसला

लॉ कालेज के छात्रा के संगे सामुहिक दुष्कर्म के रहे मामला

चंद्रशेखर, भोजपुरी समय, रांचीः निर्भया कांड के चारों अपराधियन के भले आठ बरिस बादो फांसी नइखे भइल, बाकिर अइसने एगो मामिला में रांटी कोर्ट से ”रेप” पीड़िता के न्याय मिल गइल बा। ताजा मामला में जमशेदपुर के रहे वाली लॉ कॉलेज के छात्रा से रांची में दुष्कर्म जइसन जघन्य अपराध करे वाला 11 आरोपीयन के कोर्ट उमिरकैद के सजा सुनवले बा। एहमें सबसे बड़ बात ई बा कि ई घटना के केवल 96 दिन बादे कोर्ट एह ममिला में सजा सुना देले बा।

ज्ञात हो कि कांके थाना क्षेत्र स्थित लॉ यूनिवर्सिटी के जमशेदपुर के रहे वाली लॉ कालेज के छात्रा के संगे ई घटना ओह घरी भइल रहे जब ऊ अपना एगो संघतिया के संगे 26 नवंबर 2019 के बीआइटी मेसरा के ओर घूमे निकलल रहे। सामुहिक दुष्कर्म के एह मामला में रांची न्यायालय सभ दोषियन के उमिरकैद के सजा मुकर्रर कइले बा। कोर्ट घटना के मात्र 96 दिन बादे फैसला सुना दिहले बा।

सांझ के बेरा घूम के लवटत घरी घटल रहे घटना

जानकारी के मोताबिक पीड़ित छात्रा 26 नवंबर 2019 के सांझ के लगभग 5:30 बजे संग्रामपुर के रास्ता से अपना साथी के संगे बीआईटी मेसरा  के ओर से घूम के लवटत रहे। एह दौरान संग्रामपुर बस स्टॉप के लगे रोकके दूनू जने आपस में बतियावे लगलें। तबहीं अलगा-अलगा मोटरसाइकिल से उहां छवगो युवक पहुंचले आ ओह दूनू जने से गाली-गलौज करे लगले। एकरा बाद ऊ लोग छात्रा आ उनकरा संघतिया के बलात मोटरसाइकिल पर बइठा के अपना संगे ले गइल लोग। हालांकि एह क्रम में संग्रामपुर बस स्टॉप से करीब 150 मीटर के दूरी पर बदमाशन के मोटरसाइकिल भी खराब हो गइल। तब उ लोग अपना दोस्तन के फोन कऽ के कार मंगवाके छात्रा के जबरन कार में बइठाके उनकरा के सुनसान ईंट भट्ठा तक ले गइलन, जहां छात्रा के सभ बदमाश मिलके बारी-बारी से अपना हवस के शिकार बनवले रहस। एह दौरान ऊ लोग छात्रा के संघतिया के भी करीब तीन घंटा ले बंधक बनाकर रखले रहे लोग।

कोर्ट के फैसला मीडिया के बतावत रांची पुलिस के अधिकारी।

कोर्ट एगारह आरोपीयन के सुनवलस सजा

एह मामला के सुनवाई करत रांची कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश नवनीत कुमार के अदालत 26 फरवरी के एह मामला में 11 आरोपियन के अपहरण, सामूहिक दुष्कर्म आउर आपराधिक षड्यंत्र रचला के मामला में दोषी ठहरवले रहे, आ 02 मार्च 2020 के आपन फैसला सुना दिहलस। ज्ञात गोखे कि एह मामला मे कोर्ट 6 जनवरी, 2020 के आरोप तय कइले रहे। 7 से 12 जनवरी तक 21 लोगन के गवाही भइल। ओहिजा रोजाना देर शाम तक कोर्ट में गवाहन के बयान दर्ज कइल गइल। एकरा बाद 13 से 24 फरवरी तक दूनू पक्षन के वकील कोर्ट में आपन-आपन दलीलन के रखलें। जवना के बाद कोर्ट 26 फरवरी के सभ आरोपियन के दोषी पवलस। हालांकि एह मामला में 12 लोगन के खिलाफ मामला दर्ज कइल गइल रहे। बाकि 12वां आरोपी नाबालिग होखे के कारण कोर्ट अभी तक ओकरा पर कवनो फैसला नइखे सुनवले। कार्ट में कुलदीप उरांव, सुनील उरांव, संदीप तिर्की, अजय मुंडा, राजन उरांव, नवीन उरांव, बसंत कच्छप, रवि उरांव, रोहित उरांव, सुनील मुंडा और ऋषि उरांव के उमिरकैद के सजा सुनावल गइल बा।

Related posts

Leave a Comment

1 + 7 =