भोजपुरी के अस्सिटेंट प्रोफेसर बनले छपरा के लाल डॉ. पवन कुमार,

भोजपुरी के अस्सिटेंट प्रोफेसर डॉ पवन कुमार के सम्मानित करत भोजपुरिया समाज के विद्वत लोग

धर्मेंद्र पांडेय, भोजपुरी समय, मशरक (सारण): भोजपुरिया बधार खातिर एगो खुशखबरी बा। दरअसल बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय मुजफ्फरपुर, बिहार में सारण जिला के तरैया थाना क्षेत्र के डुमरी छपिया गांव के कन्हैया साह के बेटा डॉ. पवन कुमार के चयन भोजपुरी में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर बिहार राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग पटना के द्वारा कइल गइल बा। पवन कुमार के एह उपलब्धि के खबर सुनके सगरी जवार में खुशी के लहर दउड़ गइल बा।

एही क्रम में एतवार के मशरक रेलवे स्टेशन रोड पर एगो सम्मान कार्यक्रम के आयोजित क के भोजपुरी भाषा के विकास आ एकर अस्मिता आ पुरनकी गौरव के वापस दिवावे खातिर भोजपुरी आंदोलन में जुड़ल लोग आ समाज के प्रबुद्धजन पवन कुमार के माला पहिरा के आपन-आपन बधाई आ सुकामना दिहले।
बता दीं कि डॉ.पवन बिहार में भोजपुरी भाषा के अबहीं तक के दूसरका अस्सिटेंट प्रोफेसर पद पर आसीन होखे वाला व्यक्ति बानी। एकरा से पहिले मशरक चरिहारा गांव निवासी डॉ. जयकांत सिंह जय 1996 में भोजपुरी के पहिलका प्रोफेसर बनल रहनी। आज डॉ. सिंह लंगट सिंह कॉलेज मुजफ्फरपुर में भोजपुरी के विभागाध्यक्ष बानी।
ओहिजा एह समारोह में बधाई देवे वाला लोग में अखिल भारतीय भोजपुरी संघ से वरिष्ठ साहित्यकार आ विद्वान डॉ. जौहर साफ़ियाबादी, डॉ. जयकांत सिंह जय, समाजसेवी चन्द्रकेतु नारायण सिंह, शुभ नारायण सिंह शुभ, शिक्षक संजय कुमार सिंह, मुखिया अजीत सिंह, अमर सिंह, डॉ पी के परमार, रंजन कुमार सोनी, अंकित कुमार, प्रो रविकांत सिंह, सुधांशु कुमार, सुजीत कुमार सौरभ, यशवंत सिंह, रवीश कुमार सानू, प्रो दिग्विजय मांझी, मनोज कुमार सोनी आदि शामिल रहले।

Related posts

Leave a Comment

5 × three =