नायक के कमी से जूझत भोजपुरी सिनेमा के एगो खेवनहार के तलाश

लगभग साठ साल से अधिक समय से भोजपुरी फ़िल्म हमनी के देश में बन रहल बाड़ी सन लेकिन अचरज के बात ई बा कि हमनी के आज तक ले एगो स्थापित भोजपुरी फ़िल्म जगत के कलाकार ना खोज पवनी जा । लोक कलाकारन के खान मानल जाए वाला बिहार आ उत्तर प्रदेश के धरती त हजारन कलाकार उपराज दिहली लेकिन एको कलाकार अइसन ना भइलें जे तमिल के रजनीकांत लेखा भोजपुरी में आपन उपस्थिति दर्ज करवा सके । अइसन एको जाना ना भइलें जिंहिका एक आवाज़ प लोग बाग एक…

Read More

हास्य – व्यंग्य भोजपुरी का आगे बढ़ी !

‘‘खूब भइल । इहे नूँ भोजपुरी के असली कवि सम्मेलन भइल हवे । कुछ लोग हमनी के कविता ना होखे देवे खातिर साजिश रचले रहल हवे । हमनी के ओकरा के विफल कर दिहनी । जय हो ! जय हो !

Read More

भिखारी ठाकुर सम्मान से नवाजल गइले सोहईं के लाल जय प्रकाश गिरी

राम प्रकाश तिवारी,भोजपुरी समय, सोहईं, सारणः भोजपुरी के शेक्सपियर के नाम से विश्वविख्यात प्रसिद्ध भोजपुरिया नाटककार आ लोक कलाकार स्वर्गीय भिखारी ठाकुर के 133 वां जयंती देश विदेश के संगे संगे भिखारी ठाकुर के पैतृक गांव कुतुबपुर में बहुते धूमधाम से मनावल गइल। एही क्रम में कुतुबपुर में आयोजित एगो समारोह में गड़खा से विधायक सुरेंद्र राम, भिखारी ठाकुर जयंती समारोह आयोजन समिति के अध्यक्ष लल्लन यादव के द्वारा भोजपुरी फिल्मन के उभरत आ स्थापित लोककलाकारन के भिखारी ठाकुर सम्मान से सम्मानित कइल गइल। बता दीं कि एह क्रम में…

Read More

भुकभुकवा के छापाखाना

कोरोना महामारी आ एकरा कारण भइल वैश्विक लॉकडाउन के कारण घर में बइठल बइठल सभकर मन अगुता गइल बा। अइसन में जहां सरकार के द्वारा धीरे धीरे लॉकडाउन खोले के प्रक्रिया शुरु हो चुकल बा आ जिनगी के गाड़ी अपना पटरी पर लवट रहल बिया। त एह समय में रउआ सभे के अपना चुटीला हास्य व्यंग्य के रचना से हंसावे आ गुदगुदावे खातिर भोजपुरी समय.कॉम लेके आइल बा दिल्ली एनसीआर में भोजपुरिया कवि के नाम से विख्यात प्रसिद्ध साहित्यकार, कवि आ भोजपुरी साहित्य सरिता के संपादक आदरणीय जयशंकर प्रसाद द्विवेदी…

Read More

भटकेशरी के फिल्म कलाकार सहदेव साथी के मिलल भिखारी ठाकुर सम्मान

राम प्रकाश तिवारी,भोजपुरी समय, भटकेशरी, सारणः भोजपुरी के शेक्सपियर के नाम से विश्वविख्यात प्रसिद्ध भोजपुरिया नाटककार आ लोक कलाकार स्वर्गीय भिखारी ठाकुर के 133 वां जयंती देश विदेश के संगे संगे भिखारी ठाकुर के पैतृक गांव कुतुबपुर में बहुते धूमधाम से मनावल गइल। एही क्रम में कुतुबपुर में आयोजित एगो समारोह में गड़खा से विधायक सुरेंद्र राम, भिखारी ठाकुर जयंती समारोह आयोजन समिति के अध्यक्ष लल्लन यादव के द्वारा भोजपुरी फिल्मन के उभरत कलाकार सहदेव साथी के भिखारी ठाकुर सम्मान से सम्मानित कइल लोग। बता दीं कि सहदेव साथी सारण…

Read More

भिखारी ठाकुर जयंती पर जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया आयोजित कइलस ऑनलाइन कार्यक्रम

राम प्रकाश तिवारी,भोजपुरी समय, तिनसुकिया आसामः इतिहास में 18 दिसंबर भोजपुरी के शेक्सपियर कहाए वाला लोक कलाकार भिखारी ठाकुर के जन्मदिन के रुप में दर्ज बा। भिखारी ठाकुर के 133 वां जयंती पर जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया संस्था ऑनलाइन काव्य गोष्ठी सह सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन कइलस। एह कार्यक्रम के शुरुआत सर्वप्रथम संस्था के फरीदाबाद में रहेवाला केंद्रीय अध्यक्ष सतीश कुमार त्रिपाठी दीया जरा के कइलें। एकरा बाद आसाम में रहे वाली वंदना चौबे भिखारी ठाकुर जी के फोटो पर माल्यार्पण करके कार्यक्रम के आगे बढ़वनी। पूजा प्रसाद के सधल आ सुमधुर…

Read More

जभो जभो के कार्यक्रम में रजनी शाक्या के मिलल तीस्ता सम्मान

राम प्रकाश तिवारी, भोजपुरी समय, अमहीं मिश्र, गोपालगंजः भोजपुरिया समाज गीत-गवनई के दीवाना ह। गीत- गवनई ना होखे त कवनो भोजपुरिया कार्यक्रम निरस लागेला। कुछ एही तरे के भाव देखेके मिलल भोजपुरी खातिर समर्पित संस्था जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया के तीसरका सालाना महोत्यव में। अइसे त ई महोत्सव दू भाग में आयोजित रहे। जहां पहिला सत्र में कवि सम्मेलन के आयोजन रहे जवना में सुधि श्रोतागण काव्यरस के सागर में जम के डूबलें आ उतरइलें। ऊंहई दूसरका सत्र में कार्यक्रम के आउर सरस बनावे खातिर दूर- दूर से आइल आ क्षेत्रीय…

Read More

जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया के कवि सम्मेलन में कविता के सागर में डुबुकी लगवलें श्रोता

राम प्रकाश तिवारी, भोजपुरी समय, अमहीं मिश्र गोपालगंजः साफ सुथरा गीत गवनई आ भोजपुरिया संस्कृति के संरक्षण के उद्देश्य से,  साल 2015 में वहाट्सएप पर एगो ग्रुप के रुप में स्थापित आ साल 2017 में न्यास के रुप में देश के राजधानी दिल्ली में पंजीकृत “जय भोजपुरी- जय भोजपुरिया” परिवार के सालाना सांस्कृतिक आ साहित्यिक महोत्सव-3 के आयोजन बिहार के गोपालगंज जिला के अमहीं मिश्र गांव में भइल। ई आयोजन में हर बरिस के जइसे अबकिरो दूगो सत्र राखल गइल रहे। कार्यक्रम के पहिलका सत्र में जहां संस्था के अध्यक्ष…

Read More

‘सूपवा बोले त बोले चलनियों बोले, जेम्मे बाटे बहत्तर छेद’

भोजपुरी साहित्य के सुप्रसिद्ध पत्रिका भोजपुरी साहित्य सरिता के  संपादक, सुप्रसिद्ध साहित्यकार, व्यंग्यकार के संगे संगे भोजपुरी भाषा के प्रखर पैरोकार श्री जयशंकर प्रसाद द्विवेदी उर्फ जे.पी.भइया के लिखल एगो टटका व्यंग रचना के पढ़ीं आ भोजपुरिया बधार में उपस्थित लक्षणा आ व्यंजना के आनंद उठाईं। का जमाना आ गयो भाया,जेने देखी, भउका भर-भर के गियान बघारल जा रहल बा। गियान बघारे का फेरा में दरोगा, सिपाही से लेके जेब कतरा आ चोरन के सरदारो तक लागल बा लो। अपना लोक में एगो कहाउत पुरनिया लोग क़हत ना अघालें कि…

Read More

अस्त हो गइल एगो नवहा सितारा: सुशांत सिंह राजपूत

केकरा मन में कौन खिचड़ी पाकता केहुके कइसे मालुम होई? काहे ना चेहरा बता देला दिल के हाल? ई चीला चीला के पूछ रहल बा प्रशंसक लोग हित मीत संगी साथी बहिन बाप आ अउरी परिजन लोग भी। जबतक दुनियाँ के पता चलो की का भइल कइसे भइल? तब तक ना खत्म होखे वाला सफर पर निकल गइलन सिने जगत के चमकत दमकत महेन्द्र सिंह धोनी के किरदार के पर्दा पर जीवन्त करे वाला सितारा सुशांत सिंह राजपूत। 34 साल के कमें उमीर में बम्बई के बाँद्रा में फँसरी लगाके…

Read More