भिखारी ठाकुर जयंती पर जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया आयोजित कइलस ऑनलाइन कार्यक्रम

राम प्रकाश तिवारी,भोजपुरी समय, तिनसुकिया आसामः इतिहास में 18 दिसंबर भोजपुरी के शेक्सपियर कहाए वाला लोक कलाकार भिखारी ठाकुर के जन्मदिन के रुप में दर्ज बा। भिखारी ठाकुर के 133 वां जयंती पर जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया संस्था ऑनलाइन काव्य गोष्ठी सह सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन कइलस। एह कार्यक्रम के शुरुआत सर्वप्रथम संस्था के फरीदाबाद में रहेवाला केंद्रीय अध्यक्ष सतीश कुमार त्रिपाठी दीया जरा के कइलें। एकरा बाद आसाम में रहे वाली वंदना चौबे भिखारी ठाकुर जी के फोटो पर माल्यार्पण करके कार्यक्रम के आगे बढ़वनी। पूजा प्रसाद के सधल आ सुमधुर संचालन में माया चौबे सस्वर सरस्वती वंदना क के कार्यक्रम के विधिवत आ सुरमयी शुरुआत कइनीं। सरस्वती वंदना के बाद संस्था के अध्यक्ष सतीश कुमार त्रिपाठी के उद्बोधन के बाद काव्य गोष्ठी के शुरुआत भइल। एह क्रम में धौला से मदन मिश्रा मदन शिवपुरी के लिखल गीत जवना में भोजपुरी सभ्यता संस्कृति आउर भोजपुरी भाषा के प्रति अगाध प्रेम झलकेला प्रस्तुत कइनीं। मदन मिश्रा के बाद धौला से ही कृष्णा साहनी भइखारी ठाकुर जी पर रचित आपन कविता सुना के कार्यक्रम के भइखारी ठाकुर जी से जोड़नी। एही क्रम में धौला से ही संस्था के आसाम ईकाई के मार्गदर्शक कवि साहित्यकार दिलीप पांडे भिखारी ठाकुर के जीवन परिचय आ उनका गीतन पर प्रकाश डलनीं। एही क्रम में संस्था के सदस्य आ विविध छंद विधा के ज्ञाता अमरेंद्र कुमार सिंह आरा अपना आल्हा छंद में भिखारी ठाकुर के जीवनी पर बहुते सुंदर प्रस्तुति दिहनी। त हिजा तिंगखोंग से रजनी जयसवाल आउर सुनीता उपाध्याय के जुगलबंदी सबकर मन मोह लिहलस। एकरा बाद अपना ऑनलइन प्रस्तुति में मुंबई से अनु सिंह बहुते मनमोहक देवी गीत प्रस्तुत कइलीं। त हावड़ा से ज्योति ओझा भगवान रामचंद्र जी के स्वरूप के वर्णन करत सीता स्वयंवर के परिदृश्य पर परंपरागत गीत प्रस्तुत करके कार्यक्रम के भक्तिमय बना दिहली। वंदना चौबे भिखारी ठाकुर जी के गीत के अपना स्वर से सजवनी। गुवाहाटी से गायक राधेश्याम रजक भिखारी ठाकुर के लिखल गीतन के अपना मंडली के संगे साजबाज पर गा के प्रस्तुत कइले। दिल्ली से आभा सिंह भिखारी ठाकुर के लोकगीत के अपना स्वर में सुना के सभकर मन मोह लिहनी। हिजा संस्था के आसाम ईकाई के प्रभारी माया चौबे बाल विवाह पर भिखारी ठाकुर द्वारा लिखल बहुते मार्मिक गीत के अपना सुमधुर स्वर में प्रस्तुत कइलीं। जब एतना सुन्दर कार्यक्रम टलत रहे त एह कार्यक्रम के संचालिका पूजा प्रसाद श्रोता लोग के मांग पर आपन एगो कविता सुना के खुब वाहवाही बिटोरनी। एह क्रम में रीना विश्वकर्मा अपना मातृभाषा में गीत प्रस्तुत कर के समां बान्ह दिहली। सांझी के 6 बजे से शुरु भइल कार्यक्रम जब अपना समापन के ओर बढ़त रहे त प्रतिभागी लोग के उत्साह आ सुन्दर,सुग्घर प्रस्तुति के बाद संस्था के अध्यक्ष सतीश कुमार त्रिपाठी अपना सुंदर स्वर में देवी गीत के सुना के कार्यक्रम में आपन प्रस्तुति दिहनी। एकरा बाद अंत में रजनी जयसवाल एह कार्यक्रम के समापन धन्यवाद ज्ञापन के संगे कइनी। रउआ के बता दिहीं कि जय भोजपुरी-जय भोजपुरिया संस्था के आसाम ईकाई के स्थापना 7 जुलाई  2019 के कइल गइल रहे। एह ईकाई के स्थापना के मुख्य उद्देश्य आसाम आ पूर्वोत्र भारत में भोजपुरी साहित्य आउर भोजपुरी संस्कृति के परंपरागत गीतन के जी रहे वाला भोजपुरिया जनमानस तक पहुंचावल जाव आ लोग के भोजपुरी भाषा के अधिका से अधिका प्रयोग करे खातिर प्रेरित कइल जाव। एह कार्यक्रम में संस्था के संरक द्वय के संगे संगे संस्थआ के केंद्रिय उपाध्यक्ष संगीत सुभाष पांडेय के संगे संगे देश विदेश में बइठल सभ सवांग अपना अपना मोबाइल से इंटरनेट के माध्यम से उपस्थित रहले। रउ लोग के बता दीं संस्था के आसाम ईकाई के मुख्य सदस्य में कमलेश दुबे, दिलीप पांडे, माया चौबे, वंदना चौबे, रजनी जयसवाल, अलका सिंह, शिल्पा सिंह, आ कानूनी सलाहकार लक्ष्मी जयसवाल के संगे-संगे कृष्णा साहनी, यदुवंश मणि उपाध्याय आदि लोग बा।

Related posts

Leave a Comment

13 − two =