सोनभद्र के पहाड़न में मिलल तीन हजार टन सोना

          40 साल से अधिका समय लागल सोना खोजे में

भोजपुरी समय, सोनभद्रः उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिला में सोना के भारी खदान के पता लागल बा।  हालांकि एह बात के पता लगावे में सरकार के 40 बरिस से अधिका समय लाग गइल। अइसन नइखे कि एह जगहा पर सोना के खोज खाली भारत सरकार ही करवावत रहल हऽ, बलुक गुलामी के दौर में अंग्रेजों भी सोने के खान के पता लगावे के कोशिश कइले रहे बाकिर, ऊ कामयाब ना हो सकल रहे। चूंकि आजादी से पहिले ही सोना खातिर खोज होखे के चलते ही एह पहाड़ी के नांव सोन पहाड़ी पड़ गइल रहे, आ तब से लेके अब तकले इहां के आदिवासी एकरा के सोन पहाड़ी के नाम से ही जानेले। इहंवा रहे वाला आदिवासी लोग के एह बात के तनिको भी भान ना रहल कबो कि एह पहाड़ियोंन के गर्भ में तीन हजार टन सोना दबाइल पड़ल बा।

पहिलहीं से खनिज संपदा खातिर प्रसिद्ध बा सोनभद्र

इहंवा एगो बात ध्यान देवे वाला बा कि सोनभद्र जिला पहिले से ही खनिज संपदा खातिर पूरा देश में प्रसिद्ध रहल हऽ बाकिर अब एजा सोना के अपार भंडार मिलला के बाद ई पूरा दुनिया के निगाह में आ गइल बा। एजा गौर करेवाला बात ई बा कि ई काम एकाएक नइखे भइल, बल्कि सोना के खोज आउर पुख्ता करे में वैज्ञानिकन के टीम के 4 दशक के लंबा समय लागल बा। सरकारी अभिलेखन के मोताबिक सोनभद्र में सबसे पहिले सोना के खोज 1980 के दशक में भइल रहे।

जरुरी कामन के पूरा करके टेंडर खातिर सरकार बढवलस डेग

ओह बेरा वैज्ञानिक लोग एजा कुछ जगहन के चिंहित कइले रहे। जेकरा बाद दूसरका खोज 1990-92 में भइल रहे, एह दौरान सोना के जगहा के चिह्नित कइल गइल रहे। तीसरा आ चउथा खोज 2005 से लेके 2012 के दौरान कई चरणन में कइल गइल। एह दौरान सोना के खोज के अमली जामा पहिरावल गइल रहे। साल 2012 से लेके अबले जवन आउर कुल्ही जरूरी कामन के पूरा कइला के बाद सरकार एकरा टेंडर प्रक्रिया के ओर बढ़ल बिया।

सीमांकन के काम भइल पूरा 

वरिष्ठ खान अधिकारी के के राय बतवले कि शासन के निर्देश पर चिह्नित सभ खनन स्थलन के सीमांकन के काम बियफे के पूरा कर लियाइल बा। बतावल जा रहल बा कि अब वन विभाग के जमीन के नक्शा से एह सीमांकन के मिला के ई देखल जाई कि कहीं ई जगहा वन भूमि में त नइखे आवत। जदि ई कुल्ह सोना के खदान वन भूमि के दायरा में पड़त होखी त एकर रिपोर्ट शासन के भेजल जाई, जवन के बाद एह जमीन के धारा 20 के तहत अधिग्रहित कइल जा सकी। अधिकारीयन के बतवले  के मोताबिक खनन शुरू होखते प्रदेश सरकार के कतना अरब रुपिया के राजस्व मिली, एकर सटीक गणना वर्तमान समय में कइल संभव नइखे।

Related posts

Leave a Comment

twelve − two =